Wind Energy in Hindi || पवन ऊर्जा, पवन चक्की, पवन पम्प

पवन ऊर्जा क्या है? (What is Wind Energy?) हमारे वातावरण में चारों तरफ वायु विद्यमान है। यह मन्द गति से चलने पर हवा के रूप में होती है तथा तेज हो जाने पर इनके अन्य रूप आंधी, तूफान, टारनेडो, टाइफून, हरिकेन आदि हैं। इनमें इतनी ऊर्जा होती है कि सामने आने वाले हर पेड़ तथा वस्तु को उखाड़ फेंकती है। जिससे यह पता चलता है कि वायु में ऊर्जा होती है। इसी ऊर्जा का उपयोग मानव…

Continue ReadingWind Energy in Hindi || पवन ऊर्जा, पवन चक्की, पवन पम्प

Solar Energy in Hindi || सोलर ऊर्जा, सोलर सेल,

सोलर ऊर्जा (Solar Energy) पृथ्वी पर ऊर्जा का सबसे बड़ा व अच्छा स्रोत सूर्य है जो कि ऊर्जा को पृथ्वी पर विद्युत चुम्बकीय विकिरण के रूप में पहुँचाता है। पृथ्वी पर इस विकिरण ऊर्जा को अन्य रूपों में परिवर्तित किया जा सकता है सूर्य द्वारा उत्सर्जित प्रकाश का अध्ययन करने पर पता चलता है कि सूर्य का लगभग 70% द्रव्यमान हाइड्रोजन, 28% हीलियम तथा 29% अन्य भारी तत्वों से बना हुआ है।  सूर्य के अत्यधिक ऊर्जा का…

Continue ReadingSolar Energy in Hindi || सोलर ऊर्जा, सोलर सेल,

Soil Pollution in Hindi || मृदा प्रदूषण के कारण और उपाय

मृदा प्रदूषण (Soil Pollution)  मृदा, पर्यावरण का एक महत्त्वपूर्ण कारक है। सभी वनस्पतियाँ तथा विभिन्न फसलें मृदा पर ही उगती हैं। उपजाऊ मृदा क्षेत्र में सबसे अधिक मानव जनसंख्या निवास करती है।  खनिज चट्टानों के टूटकर बने चूर्ण, जीवाश्म व जल के मिश्रण से मृदा का निर्माण होता है। खनिज पदार्थ, मृदा को पोषित करते हैं। जीवाश्म, मृदा की उत्पादकता में वृद्धि करते हैं तथा जल पोषक तत्वों का संचार करते हैं। जब मृदा के  रासायनिक संघटन…

Continue ReadingSoil Pollution in Hindi || मृदा प्रदूषण के कारण और उपाय

What is Protein || प्रोटीन क्या है? स्रोत, उपयोगिता, प्रभाव

प्रोटीन (Protein)  प्रोटीन (Protein) शरीर की वृद्धि एवं विकास के साथ-साथ शरीर का निर्माण करने के लिए आवश्यक है।  शिशु अथवा बाल्यावस्था में प्रोटीन (Protein) की मात्रा की अधिक आवश्यकता होती हे क्योंकि उस समय शारीरिक विकास तीव्र गति से होता है।  प्रोटीन (Protein) शरीर के निर्माण, वृद्धि, तन्तुओं की क्षतिपूर्ति, हार्मोन का निर्माण आदि के लिए आवश्यक है।  प्रोटीन शारीरिक विकास एवं वृद्धि का आवश्यक तत्व है । प्रोटीन ग्रीक भाषा क 'प्रोटीज’ शब्द से…

Continue ReadingWhat is Protein || प्रोटीन क्या है? स्रोत, उपयोगिता, प्रभाव

About Solar System in Hindi || सौरमंडल के बारे में || B.ed

Hindi Meaning of Solar System - सौरमंडल सौरमंडल क्या है? (What is Solar System?) मानव ने क्रमबद्ध इकाई के रूप में जिस विश्व की संकल्पना परिलक्षित की उसे 'ब्रह्माण्ड‘ कहा गया। अंग्रेजी भाषा में ब्रह्माण्ड को कॉसमास (Cosmos) कहा जाता है, जिसका अर्थ होता है सुव्यवस्था। ब्रह्माण्ड से सम्बन्धित अध्ययन को ब्रह्माण्ड विज्ञान कहते हैं। कुछ विद्वान इन्हें आकाशीय पिण्ड भी कहते हैं। हमारी पृथ्वी भी एक खगोलीय पिण्ड है । कुछ आकाशीय पिण्ड काफी बड़े…

Continue ReadingAbout Solar System in Hindi || सौरमंडल के बारे में || B.ed

Circulatory System in hindi || परिसंचरण तंत्र (B.ed)

Hindi Meaning of Circulatory System - परिसंचरण तंत्र परिसंचरण तन्त्र क्या है? (What is Circulatory System) शरीर के रक्त परिसंचरण तन्त्र (Circulatory System) में रक्त, हृदय एवं रक्त वाहिनियों का समावेश होता है। ह्रदय की पम्पिंग क्रिया द्वारा रक्त धमनियों (Arteries) एवं धमनिकाओं से होता हुआ सम्पूर्ण शरीर की कोशिकाओं (Cells) में पहुँचता है।  तथा उनमें ऑक्सीजन (Oxygen), आहार (Food), पानी (Water) एवं अन्य सभी आवश्यक पदार्थ पहुँचाता है और वहाँ से अशुद्ध (Impure) रक्त कोशिकाओं…

Continue ReadingCirculatory System in hindi || परिसंचरण तंत्र (B.ed)

Plant Cell in Hindi || पादप कोशिका सरंचना, कार्य, अवयव

पादप कोशिका की परिभाषा (Definition of Plant Cell) "पौधों में पायी जाने वाली कोशिका भित्ति से घिरी यूकैरियोटिक सरंचना जिसमें केन्द्रक झिल्लीयुक्त होता है। उसे पादप कोशिका (Plant Cell) कहते हैं। " पादप कोशिका क्या है? (What is Plant Cell?) पादप कोशिका (Plant Cell) मधुमक्खी के छत्ते के आकार में षट्भुज आकृति की होती है जो कोशिका भित्ति (cell wall) से घिरी होती है यह कोशिका को आकार प्रदान करने का काम करती है। पादप कोशिका…

Continue ReadingPlant Cell in Hindi || पादप कोशिका सरंचना, कार्य, अवयव

Nutrition in Hindi || पोषण, स्वपोषी, परपोषी के प्रकार, कुपोषण

Hindi Meaning of Nutrition - पोषण पोषण क्या है? (What is Nutrition?) जीवधारियों को जैविक क्रियाओं के लिए ऊर्जा की आवश्यकता होती है। ऊर्जा भोज्य पदार्थों के ऑक्सीकरण से प्राप्त होती है। जीवद्रव्य निर्माण के लिए आवश्यक पोषक तत्व भी भोजन से प्राप्त होते हैं। जीवधारियों द्वारा ग्रहण किया हुआ भोजन सीधे शरीर के उपयोग में नहीं आ सकता,अत: पाचन, अवशोषण,  स्वांगीकरण के  उपरान्त पचा हुआ भोजन कोशिकाओं के जीवद्रव्य में विलीन हो जाता है। इस सम्पूर्ण…

Continue ReadingNutrition in Hindi || पोषण, स्वपोषी, परपोषी के प्रकार, कुपोषण

Transpiration in Hindi || वाष्पोत्सर्जन क्या है, परिभाषा, प्रकार।

Hindi Meaning of Transpiration - वाष्पोत्सर्जन  वाष्पोत्सर्जन की परिभाषा (Definition of Tranpiration) पौधे की जड़ें मृदा से जल तथा खनिज पदार्थों का निरन्तर रूप से अवशोषण करती रहती हैं। जीवित पौधों के वायवीय भागों से होने वाली जल हानि को वाष्पोत्सर्जन (Transpiration) कहते हैं।  वाष्पोत्सर्जन (Transpiration) की यह क्रिया एक भौतिक क्रिया होने के साथ जैविक क्रिया भी है। यह क्रिया जीवद्रव्य के द्वारा नियंत्रित रहती है । रात्रिकाल में वाष्पोत्सर्जन (Transpiration) कम तथा दिन में यह…

Continue ReadingTranspiration in Hindi || वाष्पोत्सर्जन क्या है, परिभाषा, प्रकार।

Digestive System in Hindi || पाचन तंत्र,भाग, कार्य एवं चित्र

पाचन तंत्र की परिभाषा (Definition of Digestive System) भोजन के पाचन में सहयोग करने के लिए आहार नाल एवं सम्बद्ध ग्रंथियाँ मिलकर एक तंत्र का निर्माण करती हैं इसी तंत्र को पाचन तंत्र (Digestive System) कहते हैं। भोजन सभी सजीवों की मूलभूत आवश्यकताओं में से एक है । इसी से सभी को कार्य करने कऐ लिए  ऊर्जा मिलती है । भोजन मानव की शारीरिक वृद्धि एवं विकास के लिए आवश्यक है । भोजन के प्रमुख अवयव…

Continue ReadingDigestive System in Hindi || पाचन तंत्र,भाग, कार्य एवं चित्र