पौधों में प्रजनन || Reproduction in Plants in Hindi

पौधों में प्रजनन (Reproduction in Plants) प्रत्येक सजीव प्रजनन क्रिया के माध्यम से ही सदृश्य जीव उत्पन्न कर पाते है। इस क्रिया के द्वारा ही वे अपने वंश को बनाये रखते हैं। पौधों में प्रजनन (Reproduction in plants) की विधियों को 2 श्रेणी में बाँट सकते हैं -लैंगिक तथा अलैंगिक जनन। लैंगिक और अलैंगिक जनन के अन्तर को निम्न रूप से समझ सकते हैं।  पौधों के लैंगिक तथा अलैंगिक प्रजनन में अंतर (Difference Between Sexual and…

Continue Readingपौधों में प्रजनन || Reproduction in Plants in Hindi

भौतिक और रासायनिक परिवर्तन || bhautik aur rasaynik parivartan ke beech antar

भौतिक और रासायनिक परिवर्तन के बीच अंतर भौतिक और रासायनिक परिवर्तन क्या है? (What is Physical and Chemical Changes?) जब किसी पदार्थ के भौतिक और रासयनिक गुणों में परिवर्तन होता है तो ऐसे परिवर्तन को भौतिक और रासायनिक परिवर्तन कहते हैं। मोम का पिघलना तथा मोम का जलना ये दोनों अलग-अलग क्रिया हैं और ये क्रमशः भौतिक और रासायनिक परिवर्तन के उदाहरण हैं।  मोम का जलना एवं पिघलना (भौतिक और रासायनिक परिवर्तन का उदाहरण) रासायनिक परिवर्तन…

Continue Readingभौतिक और रासायनिक परिवर्तन || bhautik aur rasaynik parivartan ke beech antar

सरल मशीन के प्रकार || Saral Machine ke prakar

सरल मशीन (Simple Machine) मशीन एक ऐसी युक्ति है जो किसी कार्य को करने के  लिए लगाए गए बल या प्रयास को प्रभावित करती है । सरल मशीन किसी कार्य को करने के लिए लगाए जाने वाले बल को कम करके या बल की दिशा को कार्य की दिशा में लगाकर भारी कार्य को आसान बना देती है। सरल मशीन के द्वारा किसी कार्य को करने के लिए मशीन का अधिकतम प्रयोग करके हम बल की…

Continue Readingसरल मशीन के प्रकार || Saral Machine ke prakar

Respiratory System in Hindi || श्वसन तंत्र

श्वसन क्या है? (What is Respiration?) श्वसन शब्द अंग्रेजी भाषा ‘Respiration’ का ही हिन्दी रूपान्तर है जो लैटिन भाषा के शब्द 'Respirate' से बना है। Respirate का अर्थ है 'सांस लेना' (To Breathe)। श्वसन (Respiration) की क्रिया पौधों तथा जन्तुओं में अलग-अलग प्रकार से होती है। श्वसन के अन्तर्गत क्रमश: निःश्वसन (Inspiration) तथा उच्छवसन (Expiration) दो क्रियाएँ आती हैं । श्वसन क्रिया में जो अंग भाग लेते हैं उन अंगों को श्वसन अंग तथा इस तन्त्र…

Continue ReadingRespiratory System in Hindi || श्वसन तंत्र

Soil Erosion in Hindi || मृदा अपरदन कारण सरंक्षण, उपाय

मृदा अपरदन क्या है? (What is Soil Erosion?) मृदा को ऊपरी या अन्य परत का हटना मृदा का कटाव (अपरदन) कहलाता है। यह वर्षा जल, तथा वायु आदि से होता है। इस प्रकार उपरी मृदा का एक स्थान से दूसरे स्थान तक स्थानान्तरण मृदा अपरदन (Soil Erosion) कहलाता है। इस प्रक्रिया में मृदा की ऊपरी सतह में उपस्थित चिकनी मिट्टी, दोमट मिट्टी आदि की हानि होती है तथा मृदा में रेत, बजरी आदि शेष रह जाते हैं…

Continue ReadingSoil Erosion in Hindi || मृदा अपरदन कारण सरंक्षण, उपाय

Excretory System || हिंदी में जानें उत्सर्जन तंत्र की कार्यप्रणाली

उत्सर्जन तंत्र क्या है? (What is Excretory System) किसी जीव के शरीर से विषाक्त अपशिष्ट (Toxic Wastes) को बाहर निकालने की प्रक्रिया उत्सर्जन (Excretion) कहलाती है। कार्बन डाई ऑक्साइड और यूरिया मानव शरीर द्वारा उत्सर्जित किए जाने वाले प्रमुख अपशिष्ट है। कार्बन डाई ऑक्साइड श्वसन की प्रक्रिया से पैदा होता है और यूरिया यकृत (लीवर) में अप्रयुक्त प्रोटीनों के अपघटन से निर्मित होता है।  मानव शरीर से इन्हें बाहर निकालना अनिवार्य है क्योंकि इनका मानव शरीर में…

Continue ReadingExcretory System || हिंदी में जानें उत्सर्जन तंत्र की कार्यप्रणाली

Wind Energy in Hindi || पवन ऊर्जा, पवन चक्की, पवन पम्प

पवन ऊर्जा क्या है? (What is Wind Energy?) हमारे वातावरण में चारों तरफ वायु विद्यमान है। यह मन्द गति से चलने पर हवा के रूप में होती है तथा तेज हो जाने पर इनके अन्य रूप आंधी, तूफान, टारनेडो, टाइफून, हरिकेन आदि हैं। इनमें इतनी ऊर्जा होती है कि सामने आने वाले हर पेड़ तथा वस्तु को उखाड़ फेंकती है। जिससे यह पता चलता है कि वायु में ऊर्जा होती है। इसी ऊर्जा का उपयोग मानव…

Continue ReadingWind Energy in Hindi || पवन ऊर्जा, पवन चक्की, पवन पम्प

Solar Energy in Hindi || सोलर ऊर्जा, सोलर सेल,

सोलर ऊर्जा (Solar Energy) पृथ्वी पर ऊर्जा का सबसे बड़ा व अच्छा स्रोत सूर्य है जो कि ऊर्जा को पृथ्वी पर विद्युत चुम्बकीय विकिरण के रूप में पहुँचाता है। पृथ्वी पर इस विकिरण ऊर्जा को अन्य रूपों में परिवर्तित किया जा सकता है सूर्य द्वारा उत्सर्जित प्रकाश का अध्ययन करने पर पता चलता है कि सूर्य का लगभग 70% द्रव्यमान हाइड्रोजन, 28% हीलियम तथा 29% अन्य भारी तत्वों से बना हुआ है।  सूर्य के अत्यधिक ऊर्जा का…

Continue ReadingSolar Energy in Hindi || सोलर ऊर्जा, सोलर सेल,

Soil Pollution in Hindi || मृदा प्रदूषण के कारण और उपाय

मृदा प्रदूषण (Soil Pollution)  मृदा, पर्यावरण का एक महत्त्वपूर्ण कारक है। सभी वनस्पतियाँ तथा विभिन्न फसलें मृदा पर ही उगती हैं। उपजाऊ मृदा क्षेत्र में सबसे अधिक मानव जनसंख्या निवास करती है।  खनिज चट्टानों के टूटकर बने चूर्ण, जीवाश्म व जल के मिश्रण से मृदा का निर्माण होता है। खनिज पदार्थ, मृदा को पोषित करते हैं। जीवाश्म, मृदा की उत्पादकता में वृद्धि करते हैं तथा जल पोषक तत्वों का संचार करते हैं। जब मृदा के  रासायनिक संघटन…

Continue ReadingSoil Pollution in Hindi || मृदा प्रदूषण के कारण और उपाय

What is Protein || प्रोटीन क्या है? स्रोत, उपयोगिता, प्रभाव

प्रोटीन (Protein)  प्रोटीन (Protein) शरीर की वृद्धि एवं विकास के साथ-साथ शरीर का निर्माण करने के लिए आवश्यक है।  शिशु अथवा बाल्यावस्था में प्रोटीन (Protein) की मात्रा की अधिक आवश्यकता होती हे क्योंकि उस समय शारीरिक विकास तीव्र गति से होता है।  प्रोटीन (Protein) शरीर के निर्माण, वृद्धि, तन्तुओं की क्षतिपूर्ति, हार्मोन का निर्माण आदि के लिए आवश्यक है।  प्रोटीन शारीरिक विकास एवं वृद्धि का आवश्यक तत्व है । प्रोटीन ग्रीक भाषा क 'प्रोटीज’ शब्द से…

Continue ReadingWhat is Protein || प्रोटीन क्या है? स्रोत, उपयोगिता, प्रभाव